हवा में भी मौजूद रहता है कोरोना का वायरस,लोग हो रहे संक्रमित

Corona virus is also present in air

कोरोना वायरस (Corona Virus) से जुड़ी एक बेहद चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है। कोरोना का वायरस हवा में भी (Also Present In Air) मौजूद रहता है। एक नहीं दुनिया के कई वैज्ञानिकों ने इसको लेकर WHO  को चेताया है। अब इन वैज्ञानिकों ने गाइडलाइंस बदलने की मांग की है।

 

 

कोरोना वायरस को लेकर दुनियाभर के 239 वैज्ञानिकों ने विश्व स्वास्थ्य संगठन को खत लिखकर चेतावनी दी है। 32 देशों के इन वैज्ञानिकों का कहना है कि कोरोना वायरस हवा में भी मौजूद रहता है। वैज्ञानिक इस पत्र से जुड़ी बातों को आने वाले वक्त में जर्नल में प्रकाशित करना चाहते थे, लेकिन इससे पहले ही ये मीडिया में लीक हो गया।

पढ़े- आखिरकार गलवान घाटी में चीन की सेना पीछे हटी

 

 

 

हवा में मौजूद रहता है कोरोना वायरस

एक रिपोर्ट के मुताबिक वैज्ञानिकों ने कहा है कि हवा में मौजूद मामूली कण से भी लोग संक्रमित हो रहे हैं। पत्र में लिखा गया है कि वैज्ञानिकों को लगता है कि कोरोना वायरस हवा में लंबे वक्त तक रह सकता है और कई मीटर का सफर तय करके आसपास के लोगों को संक्रमित कर सकता है। अगर वैज्ञानिकों की ये बात सच है तो बंद कमरे या ऐसी अन्य जगहों पर संक्रमण काफी तेजी से फैल रहा होगा।

 

 

बदलेगी WHO की गाइडलाइंस

वैज्ञानिकों के नए दावे के मद्देनजर WHO को अपनी गाइडलाइंस बदलनी पड़ सकती है। जिन जगहों पर बेहतर वेंटिलेशन नहीं है वहां लोगों को दूर बैठने के बावजूद अनिवार्य रूप से मास्क पहनना पड़ सकता है। WHO अब तक कहता रहा है कि मुख्य तौर पर कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति के कफ या छींकने के दौरान Large Respiratory Droplets से ही फैलता है।

 

 

दो मीटर दूर बैठे लोग भी हो सकते हैं संक्रमित!

ऐसे में स्कूल, दुकान और ऐसी अन्य जगहों पर काम करने के लिए लोगों को अतिरिक्त सावधानी का पालन करना होगा। बस में यात्रा करना भी खतरनाक हो सकता है, क्योंकि करीब 2 मीटर दूर बैठने पर भी लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो सकते हैं। पत्र लिखने वाले वैज्ञानिकों की टीम में शामिल ऑस्ट्रेलिया की क्वींसलैंड यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी की प्रोफेसर लिडिया मोरावस्का ने कहा कि वह इसको लेकर 100 फीसदी आश्वस्त हैं।

राजस्थान की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें …

 

Related posts

Leave a Reply